Top

व्यंग ही व्यंग

  • सीएम योगी ने किया एलान होगी फिल्मसिटी निर्माण

    सीएम योगी ने। भव्य फिल्मसिटी।बड़ा किया ऐलान।।भव्य फिल्मसिटी।होगा जो निर्माण।।फैल गई खुशखबरी।।आकर्षित किया ध्यान।।वर्तमान परिस्थितियां में।है इसकी दरकार।।साबित मिल का पत्थर।कदम उठाई है सरकार।।यथाशीघ्र जो योजना।बनकर होगा तैयार।।सृजन होगा रोजगार।होगी संभावनाएं अपार।।दूरदर्शी जो निर्णय।भविष्य होगी तय।।.....

  • बोले पीएम मोदी, झांसे में ना आना किसान भाई : अभय सिंह

    बोले पीएम मोदी। विपक्ष की है चाल।।रहना होगा सावधान।कर रहे है बवाल।।झांसे में ना आना।दशकों किये राज।।कर रहे है भ्रमित।।इन लोग भी आज।।बेचेंगे अपनी फसल।ज्यादा मिलेंगे विकल्प।।मिलेगी आजादी।होगा कायाकल्प।।दिए जो आश्वासन।विधेयक रक्षा कवच।।एमएसपी के माध्यम से। मूल्य दिलाने के प्रतिबद्ध।।

  • चरम पर सियासत : अभय सिंह

    सत्तारूढ़ गठबंधन में।है जो दो घटक दल।।चरम पर सियासत।शह- मात की खेल।।बढ़ती अंदरुनी तल्खी।ठीक नही है हालात।।दोनों नेताओं की।हुई जो मुलाकात।।बड़े भाई की भूमिका।निभाने किया अनुरोध।।जदयू के बाजाए खुद।एनडीए का नेतृत्व स्वीकार।।बैठक में चिराग ने।व्यक्त किये विचार।।

  • रवि किशन......मुद्दा उठाये ज्वलंत : अभय सिंह

    सुशांत की मौत से।जुड़े ड्रग्स विवाद।।संसद में ये मामला।बहस लिया उछाल।।सांसद रवि किशन।मुद्दा उठाये ज्वलंत।।ड्रग्स जहरीली नशा।प्रतिबंध हो तुरंत।।व्यक्त किये चिंता।करना होगा उपाय।।जया जी बच्चन।यूं ही तिलमिलाई।।कुछ लोगों की वजह से।छवि धूमिल ना किया जाए।।खा कर थाली में।करे ना लोग छेद।।करो ना बदनाम।जिससे...

  • धोखेबाज ड्रैगन, करा रहा जासूसी : अभय सिंह

    धोखेबाज ड्रैगन की।शर्मनाक करतूत।।भारतीयों को करा। रहा धोखे से जासूसी।।विस्तारवादी मुल्क।हरकत सोची-समझी।।बंद हुआ व्यापार।खाया है जो खार।।मुंह की पड़ी खानी।हर कदम पर मार।।निर्लज्ज है चीन।ला ना रहा सुधार।।साबित यह करती।बौखलाया जिनपिंग सरकार।।हुआ है जो खुलासा।यथावत उसकी चाल।।भंग किया...

  • याद रखना उद्धव...... टूटेगा तेरा घमंड : अभय सिंह

    तल्ख जुबानी जंग।लिया सियासी रंग।।बदले की भावना।यह कैसा लोकतंत्र?बोलने की आजादी।क्या होगा पाबंद?भर दी है हुंकार।हिल गई सरकार।।बीएमसी की कार्रवाई।बुलडोजर दफ्तर द्वार।।बोली है कंगना।टूटा है मेरा घर।।याद रखना उद्धव।टूटेगा तेरा घमंड।।वक्त है जो पहिया।घूमेगा ही जरूर।।माननीय न्यायालय।लगाई है फटकार।।तत्काल...

  • खत्म हुई लुकाछिपी.... : अभय सिंह

    खत्म हुई लुकाछिपी।रिया हुई गिरफ्तार।।आ ही गया वो दिन।देश को था इंतजार।।झूम उठे प्रशंसक।खुशियों का इजहार।।जमानत अर्जी खारिज।भेज दी गई वो जेल।।भरसक की कोशिश।अंततः हुआ जो फेल।।ड्रग्स रैकेट में शामिल।किया उसने कबूल।।पूछताछ में सख्ती।आखिर गई वो टूट।।पुख्ता था सबूत।टीक ना पाया झूठ।।एनसीबी के आगे।चल नही...

  • क्राइम, कम्युनलिज्म, करप्शन नहीं बर्दाश्त : अभय सिंह

    वर्चुअल रैली के द्वारा।नीतीश किये संवाद।।गिनाए उपलब्धियां।किए 15 साल याद।।क्राइम, कम्युनलिज्म।करप्शन नहीं बर्दाश्त।।जनता की सेवा धर्म।निभाते रहता हूं काम।।इशारों में हमला।बगैर लिए नाम।।मिला था जब मौका।क्यों नहीं किये काम?राजद बनाम राजग।बतलाएं दोनों में फर्क।।चक्कर में नही आना।युवा पीढ़ी रहे...

  • नजदीक जो चुनाव...चले नीतीश दांव.... : अभय सिंह

    नजदीक जो चुनाव।चले नीतीश दांव।।गरमा गई राजनीति।मुखर पक्ष-विपक्ष।।चुनावी है घोषणा।सिर्फ है महज।।एससी-एसटी हत्या।सदस्य एक परिवार।।मिलेगी उन्हें नौकरी।घोषणा की सरकार।।छोड़ ना रहा कसर।विपक्ष है हमलावर।।स्वर्ण एवं अल्पसंख्यक।जान की नहीं कीमत?अन्य समाज के लोगों?क्या नौकरी नहीं जरूरत?मिल गया जो मुद्दा।बन...

  • कंगना के माकूल जवाब पर, तिलमिलाई शिवसेना : अभय सिंह

    कंगना ने दिया है।माकूल जवाब।।तिलमिलाई शिवसेना।खड़ा किया बवाल।।सरकार के वजीर।हो गए जो अधीर।।दे डाला धमकी।पेश किया नजीर।।बोल संजय राऊत।देख लेंगे हम।।मुंबई में रखा ।वो गर कदम।।खाते वो शपथ।वास्ता संविधान।।ताक पर रख कानून।अनर्गल देते बयान।।सबकी है मुंबई।रहे इतना ध्यान।।

  • आया चुनावी मौसम, नेता तलाश रहे आशियाना : अभय सिंह

    आया चुनावी मौसम। नेता तलाश रहे आशियाना।।दिखा रहे हैं दमखम।बदल रहे है पाले।।मानो मचा हुआ है होड़।जोड़-तोड़ एवं गठजोड़।।मिल ना रहा है तरहीज।लग रहा है खत्म हुआ लीज।।भूल गए सारे वो कसमे वादे।दरक रहा महागठबंधन के धागे।।करके टाटा बाय बाय।दूसरे दल में जा कर हाथ मिलाएं।।मुश्किलें भी बढ़ने के...

  • आ ना रहा बाज... धूर्त दगाबाज : अभय सिंह

    आ ना रहा बाज। धूर्त दगाबाज।।नजर है लगाए।हमारी जो जमीन।।करारा जवाब पर।मिल रहा है हर बार।।फितरत है घुसपैठ।नोकझोक व तकरार।।उसकी कपटी चलन।झांसे में पड़ना।।बेगैरत, निर्दय मुल्क।औकात है दिखाना।।हर नागरिक की मंशा।धूल है उसके चटाना।।करके अब करवाई।अक्ल लगा दो ठिकाना।।

Share it