Top

व्यंग ही व्यंग - Page 1

  • ज्योति के जज्बे को सलाम : अभय सिंह

    ज्योति के जज्बे को सलाम ।नतमस्तक हुआ आसमान ।।उसके हौसले का फैला पूंज ।सात समंदर तक हो रहा है गूंज ।।बिहार की बेटी ने ।बढ़ा दी है मान ।।गहरी रखी बुनियाद ।सदैव स्मरण रखेगा हिन्दुस्तान ।।आत्मनिर्भरता का आगाज ।बिहार नही परिचय का मोहताज ।।न हार मानने का जज्बा ।आखिरकार लिया फैसला ।।हौसला करके बुलंद ।भले...

  • बेकाबू मजदूर.... अभय सिंह

    घर जाने को बेताब ।उमड़ा जनसैलाब ।।बेकाबू मजदूर ।थे सारे आतुर ।।सहमा फिर से बांद्रा ।गांव जाने की होंड ।।हजारों की भीड़ ।नियम न कानून ।।वजह आखिर क्या ?चूक बार बार ।।बेवजह अफवाहों से ।रहना होगा सावधान ।।विपती में श्रमिक ।उचित न उपाय ।।बेचारे मजदूर ।हुए क्यों असहाय ?

  • छिपकर पैदल न करें सफ़र : अभय सिंह

    नीतीश कुमार ।ने किया अपील।।फंसे जो प्रवासी ।बाहर मजदूर ।।मिलेगी सहायता ।हैं जो मजबूर ।।आने को इच्छुक ।लाये जायेंगे घर ।।छिपकर पैदल न ।न करें सफ़र ।।ना हो परेशान ।रहे सुरक्षित,रखें धैर्य ।।हर संभव प्रयास ।कर रही सरकार ।।अपनी क्षमता से ।निरंतर प्रयास ।।बनाकर समन्वय ।उठा रहे हैं कदम ।।

  • लॉकडाउन ने चार में किया प्रवेश : अभय सिंह

    नए लॉकडाउन का ।जारी हुआ निदेश ।।बढ़ा दिया समय ।चार में किया प्रवेश ।।हुई मांगे पूरी ।राज्यों का अधिकार ।।ना अब लाचार ।अब अपने हिसाब ।।बंद रहेंगे सभी ।शैक्षणिक संस्थान ।।शर्तों के साथ सख्ती ।जीवन का हिस्सा ।।फैलाया अफवाह ।होगी एक साल जेल ।।जिला प्रशासन तय ।करेंगे अब जोन ।।बढ़ी फिर मियाद ।आपस में कर...

  • हे पिता : पुष्पा

    हे पिता न तू बचा न मैं बचाभीषण प्रचंड प्रहारों सेधूं-धूं जलते घर सारेकोई मन्दिर,कोई मस्जिद, गिरजाघर, गुरुद्वारेहे पिता हम तेरी कैसी संताने न तू बचा न मैं बचा ।बुभुक्षा का दम टूट रहा परिश्रम सड़को पर घिसट रहामानवता तिल तिल मर रही हाहाकार मच रहाहे पिता हम तेरी कैसी संतानेन तू बचा न मैं बचा ।जो...

  • जिंदा रहे तो फिर से आयेंगे....तुम्हारे शहरों को आबाद करने : धनञ्जय सिंह

    जिंदा रहे तो फिर से आयेंगेतुम्हारे शहरों को आबाद करनेवहीं मिलेंगे गगन चुंबी इमारतों के नीचेप्लास्टिक की तिरपाल से ढकी अपनी झुग्गियों मेंचौराहों पर अपने औजारों के साथफैक्ट्रियों से निकलते काले धुंए जैसेहोटलों और ढाबों पर खाना बनाते, बर्तनो को धोतेहर गली हर नुक्कड़ पर फेरियों मेरिक्शा खींचते आटो चलाते...

  • पुत्र को ढो सकने के साहस का नाम पिता

    इस तस्वीर को देखिये! छपरा के माँझी पुल की तस्वीर है। लॉक डाउन में कोई परदेशी परिवार वापस घर लौट रहा है। ट्रॉली बैग पर लेटा बच्चा पुत्र ही होगा, और खींचने वाला पिता... शायद यही पिता पुत्र के सम्बन्धो की परिभाषा भी है। पुत्र को ढो सकने के साहस का नाम पिता, और पिता के भरोसे पर निश्चिन्त हो कर कहीं भी...

  • कुत्ता विदेशी .............: रिवेश प्रताप सिंह

    विश्व के सबसे वफादार जानवरों में, कुत्ते का ही नाम आता है.. लेकिन विडम्बना देखिए! भारत के भीतर, सबसे अधिक किसी को दुलार मिला तो विदेशी कुत्तों को...और सबसे अधिक लात-दुत्कार मिली तो देशी कुत्ते को...मूतते, दोनों टांग उठाकर ही हैं लेकिन जो विदेशी है, वो मुंह चाटता है और देशी है वो धूल फांकता है.भारत...

  • लॉकडाउन चौथा चरण ...नया रंग,नया कलेवर : अभय सिंह

    पीएम मोदी का बयान ।नई शर्तों के साथ होगा ऐलान ।।लॉकडाउन चौथा चरण ।नया रंग,नया कलेवर ।।नये होंगे स्वरुप ।नये होंगे नियम ।।आत्मनिर्भर भारत ।नया अब अभियान ।।महत्वपूर्ण आर्थिक पैकेज ।किये ऐलान ।। आपदा के अवसर ।डटकर करना सामना ।हर वर्ग का रख कर ख्याल ।साथ लेकर है चलना ।।वर्ग जो भी हो परिश्रमी ।कर लिया...

  • फुदकन चाचा.... : आशीष त्रिपाठी

    फुदकन अपनी साइकिल नहर के पुल के पास , पान की दुकान पर रख दिया करते थे । बस आती और सवार होकर शहर अपने ऑफिस के लिए निकल लेते । शाम को वापस वहीं पुल पर उतरते और साइकिल लेकर घर आ जाते । छुट्टी के दिनों को छोड़ दें तो जब तक रिटायर नहीं हो गए तब तक उनकी यह रोज की दिनचर्या रही । उसी दौरान की एक घटना है ।...

  • बौखलाया पकिस्तान..........अभय सिंह

    भारत के कारवाई से ।बौखलाया पकिस्तान ।।मुहँतोड़ दिया जवाब ।हालत हुआ खराब ।डर गए हैं आतंकी ।खेमें में हडकंप ।।हो रहा है खात्मा ।हावी है निराशा ।।जज्बा और शौर्य ।दिखा रहे जवान ।।मिटाना है लक्ष्य ।संभाल चुकी कमान ।।सदमे में आईएसआई ।है बहुत घबराई ।।

  • माँ ही जीवन का सार है... : अभय सिंह

    माँ ही जीवन का सार है ।माँ ही स्वयं में समेटे संसार है ।।माँ ही बच्चों की छांव है ।आत्मीयता एवं लगाव है ।।माँ की ममता का ।नही है कोई मोल ।।माँ शब्द ही जगत में ।समस्त सृष्टि का कराता बोध है ।।माँ का अर्थ है संवेदना ।और भावना, अहसास ।।खुद के लिए कुछ न मांगती ।ना ही प्रार्थना करती ।।भविष्य का करती है...

Share it