Read latest updates about "व्यंग ही व्यंग"

  • हाल न पूछिये काका, देश तो एकदम गड्ढे में धस रहा है

    हाल न पूछिये काका, देश तो एकदम गड्ढे में धस रहा है

    -गोड़ लागते हैं काका -जियो चेला जियो, का हाल है रामचनर?-अरे हाल न पूछिये काका, देश तो एकदम गड्ढे में धस रहा है। देखते नहीं, निर्दोष बच्चों का एनकाउंटर करा रहा है भजपइया सब।-क्यों रे, उ अनेरवा सब निर्दोष था? रै बम धमाका का दोषी तुमको निर्दोष लउ...

    2017-11-02 02:59:17.0
  • सरकार को पोंकहवीं प्रजाति की रक्षा करनी चाहिए

    सरकार को पोंकहवीं प्रजाति की रक्षा करनी चाहिए

    कभी कभी अच्छे कार्यों के भी कुछ बुरे प्रभाव होते हैं। जैसे भारत सरकार के स्वच्छता अभियान से भारत की एक अद्भुत प्रजाति के अस्तित्व पर संकट आन खड़ा हुआ है। यह अद्भुत प्रजाति है सांझ-सबेरे सड़क किनारे निपटान करने वाले तुर्रम खानों की। ग्रामीण क्षेत्र में ...

    2017-10-11 13:35:58.0
  • रविश की रिपोर्ट पर रिपोर्ट

    'रविश की रिपोर्ट' पर रिपोर्ट

    पत्रकारिता के लिए 7-स्टार स्टूडियोज और हाई डेफनिशन कैमरों के साथ थ्री पीस सूट में लाखों रूपये तनख्वाह पाने वाले पत्रकारों की बेचैनी मैं समझ रहा हूँ। पत्रकारिता के नाम पर जो ये अय्याशी(मोटी तनख्वाह, एयर कंडिसन स्टूडियोज़, बिजिनेस क्लास हवाई यात्रा) में...

    2017-09-20 04:01:35.0
  • पेंड़किया,गुजिया,चंद्रकला,लवंगलता,मिठा सिंघाड़ा 
देश का रूप—स्वरूप,मन—मिजाज इन जैसा ही है

    पेंड़किया,गुजिया,चंद्रकला,लवंगलता,मिठा सिंघाड़ा देश का रूप—स्वरूप,मन—मिजाज इन जैसा ही है

    एक मिठाई है पेंड़ुकिया. पेंड़किया भी कहते हैं इसको. कई जगहों पर गुजिया के नाम से जाना जाता है. सूखा भी होता है, रसदार भी. कई तरह से बनता है. खोवा वाला, सूजी वाला, आंटा के हलवा वाला. आदि—अनादि प्रकार है. चीज एक ही, नाम अलग. मूल एक ही, सेप—साइज अलग, अं...

    2017-09-13 02:02:31.0
  • दिल गिरा कहीं पर... दफ़्फ़ातन...

    दिल गिरा कहीं पर... दफ़्फ़ातन...

    वो तेज़ी से मेट्रो की सीढ़ियाँ उतरता चला जा रहा था कि अचानक लगा जैसे वक़्त रुक गया हो। सब कुछ अचानक अपनी नैसर्गिक गति से दो सौ गुणा कम पर आ गया हो... बगल से ऑफ़-व्हाईट रंग की पारभासी टाॅप, गले में बहुत ही हल्का फ़्लोरल पैटर्न वाला स्कार्फ़, जो गले मे...

    2017-08-23 15:05:19.0
  • ये लड़ाई है लचीला आधुनिक युग का संविधानऔर एक कठोर कबीलाई युग का बर्बर विधान के बीच

    ये लड़ाई है लचीला आधुनिक युग का संविधानऔर एक कठोर कबीलाई युग का बर्बर विधान के बीच

    फिल्म 'बाहुबली-१' के युद्ध शुरू होने के दृश्य से ठीक पहले आपने परेशान कटप्पा को जरूर देखा होगा। वो हैरान था कि इन हथियारों से हमलावरों का मुकाबला कैसे करेंगे ? ये तो किले पर हमला करने के हथियार हैं ! लड़ाई की जगह, शत्रु और युद्ध का स्वरुप बदलने पर हथि...

    2017-08-23 06:31:47.0
  • नो तलाक..
इन माई बुर्का..

    नो तलाक.. इन माई बुर्का..

    उच्चतम न्यायालय का निर्णय मानवता के पक्ष में है। समाज के हित में ऐसे निर्णय डंके की चोट पर न सही...हथौड़े की चोट पर भी ठीक हैं। हमारे एक...मित्र कह रहे थे..कि ..तहार भउजाई...बड़ा एथी हो गइल बाड़ी..आजुकाल..। मन करत बा क...

    2017-08-22 07:06:43.0
  • हे प्रभु! ये तुम्हारी माया नहीं तो और क्या मात्र 23 और 70 ही रखी गई

    हे प्रभु! ये तुम्हारी माया नहीं तो और क्या मात्र 23 और 70 ही रखी गई

    मैं सरकार को दाद देना चाहता हूँ कि चौदह डिब्बों के पलटने के बाद भी, और स्थानीय लोगों के द्वारा सौ से बहुत ज्यादा लाशों को निकालने के बावजूद (सरकारी लोगों को तो छोड़ ही दीजिए), मरे हुए लोगों की संख्या मात्र 23 और घायलों की संख्या 70 ही रखी गई है। ...

    2017-08-20 05:40:53.0
Share it
Share it
Share it
Top
To Top
Select Location