Top
Janta Ki Awaz

जिंदगी ऊपर वाले के हवाले

जिंदगी ऊपर वाले के हवाले
X

अभय सिंह

बन्द हो गई जीविका।

चौपट हुआ व्यवसाय।।

भगवान भरोसे हैं लोग।

खत्म नौकरी एवं आय।।

स्थिर है बीमारी।

टस से मस न हिल।।

देख वीभत्स दृश्य।

दहल जा रहा दिल।।

शिथिल है सरकार।

दिख ना रहा ढब।।

साफ व्यक्त हो रहा।

स्थिति भी अजब।।

आन पड़ी है आफत।

दे न रहा कोई साथ।।

मुसीबत की इस घड़ी में।

सभी रास्ता लेते हैं काट।।

मनुष्यता भरती आह।

खाने को पड़े है लाले।

एक एक दिन गुजर रहें।

जिंदगी ऊपरवाले के हवाले।।

Next Story
Share it