Top
Janta Ki Awaz

योगी आदित्यनाथ का माफिया को फिर कड़ा संदेश, बोले-माफिया संस्कृति को कर देंगे तबाह

योगी आदित्यनाथ का माफिया को फिर कड़ा संदेश, बोले-माफिया संस्कृति को कर देंगे तबाह
X

लखनऊ । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के विकास में बाधक माफिया को उनके गढ़ में ही कड़ा संदेश दिया है। गाजीपुर के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का स्थलीय निरीक्षण करने के बाद माफिया को कड़ा संदेश दिया।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि माफिया के लिए प्रदेश में कोई भी जगह नहीं है। माफिया तो प्रदेश तथा देश के विकास में बाधक होते हैं। हमने भी तय किया है कि माफिया संस्कृति को तबाह कर देंगे। गाजीपुर में एक बार फिर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने माफिया को कड़ा संदेश दिया। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के निरीक्षण के दौरान वह गाजीपुर पहुंचे और कहा कि उत्तर प्रदेश में माफियाओं के लिए कोई जगह नहीं है। मुख्यमंत्री ने अपराधियों को चेतावनी देते हुए कहा कि पूर्वांचल के विकास में बाधक बनी समूची माफिया संस्कृति को तबाह करने की दिशा में सरकार लगातार आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश विकास के नाम पर जाना जाएगा । एक भारत श्रेष्ठ भारत के उत्तर प्रदेश में माफियाओं के लिए कोई जगह नही है। सरकार एक ओर जहां गांव, किसान, युवा और विकास के लिए काम कर रही है, वहीं दूसरी ओर पूर्वांचल के विकास के लिए बाधक बने माफियाओं की संस्कृति को तबाह करने के लिए भी लगातार आगे बढ़ रही है।

योगी आदित्यनाथ सरकार ने कई वर्ष वे उत्तर प्रदेश में लगातार समानांतर सत्ता चला रहे माफियाओं को उखाड़ फेंकने के लिए सबसे बड़ा अभियान चला रखा है। चार साल पहले तक दहशत का पर्याय बने मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, विजय मिश्रा,अनिल दुजाना और सुंदर भाटी जैसे 40 से ज्यादा माफियाओं की 1000 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति योगी आदित्यनाथ सरकार जब्त कर चुकी है।

प्रदेश में माफिया और उनके गुर्गों के अवैध मकानों पर सरकार का बुलडोजर लगातार चल रहा है। राज्य सरकार ने माफिया और उनके गुर्गों के खिलाफ 800 गैंगस्टर के मुकदमे दर्ज करे हैं। इनमें सबसे ज्यादा मुकदमे कानून को दरकिनार कर पूर्वांचल में एकछत्र राज करने वाले गाजीपुर के मुख्तार अंसारी और प्रयागराज के अतीक अहमद के खिलाफ दर्ज हैं। इनके अवैध निर्माण को जमींदोज किया गया है। आर्थिक साम्राज्य को तगड़ी चोट दी गई है। दोनों माफिया प्रदेश के बाहर की जेलों में बंद हैं।

Next Story