Top
Janta Ki Awaz

वाराणसी में योग दिवस की तैयारियों पर खर्च होने वाले 1.52 करोड़ की निविदा में पकड़ी गई गड़बड़ी

वाराणसी में योग दिवस की तैयारियों पर खर्च होने वाले 1.52 करोड़ की निविदा में पकड़ी गई गड़बड़ी
X

विश्व भर में डंका बजा रहे भारतीय प्राच्य विद्या योग के अंतरराष्ट्रीय समारोह के आयोजन में वाराणसी में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। योग दिवस के सफल आयोजन के लिए आवश्यक सामग्री की खरीद के लिए अपने चहेते ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए ई-टेंडर से पहले ही रेट सार्वजनिक कर दिया गया।

इतना ही नहीं सबसे कम रेट लोएस्ट वन (एल-1) की निविदा की बजाय हाई एस्ट वन (एच-1) रेट पर टेंडर जारी कर दिया गया। हालांकि इसकी जानकारी होने पर आननफानन में निविदा निरस्त कर खरीद कमेटी की संस्तुति पर बाजार भाव से खरीद कराई गई। फिलहाल योग दिवस के आयोजन के नोडल बने क्षेत्रीय आयुर्वेदिक और यूनानी विभाग की करतूत पर प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मचा हुआ है।

आयुष मंत्री के गृह जिले वाराणसी में 21 जून (योग दिवस) के सफल आयोजन के लिए एक करोड़ 52 लाख रुपये जारी किया गया। इसके लिए क्षेत्रीय आयुर्वेदिक और यूनानी विभाग को नोडल बनाकर टी शर्ट, मैट, नाव सहित योग दिवस के आयोजन को सफल करने के लिए अन्य व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी दी गई।

आननफानन टेंडर को रद्द किया गया

विभाग ने ई टेंडर के जरिए इसकी निविदा जारी की, मगर टेंडर से पहले ही सामानों की खरीद का रेट खोल दिया। इतना ही नहीं, निविदा में शामिल सबसे कम कीमत वाले ठेकेदारों को नजरअंदाज करते हुए सबसे ऊंची बोली लगाने वाली कंपनी को टेंडर में चयनित करते हुए प्रक्रिया शुरू करा दी गई। हालांकि इसकी जानकारी प्रशासनिक महकमे में होने पर हड़कंप मच गया और आननफानन टेंडर को रद्द कर दिया गया। इसके बाद जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कमेटी गठित कर योग दिवस के लिए आवश्यक सामानों व व्यवस्थाओं को बाजार भाव पर उपलब्ध कराया।

दो दिन में बनानी पड़ी पूरी व्यवस्था

निविदा में गड़बड़ी के बाद कमेटी के जरिए खरीद कराने में प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। कारण, 15 जून को जारी निविदा को 16 जून को निरस्त किया गया और टीम के पास खरीद के लिए महज 18 और 19 जून का समय बचा था। जबकि वर्क आर्डर जारी करने के बाद तीन दिन का समय दिया जाना जरूरी होता है।

यही कारण है कि प्रशासन ने योग दिवस के सफल आयोजन के लिए बाजार रेट पर खरीद कराई। इसके लिए अपर जिलाधिकारी नगर, कोषागार अधिकारी सहित चार अन्य विभागों के अधिकारियों की संयुक्त टीम की निगरानी में सामानों की खरीद कराई गई।

शासन को भेजी जाएगी रिपोर्ट

क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी (वाराणसी) भावना द्विवेदी ने कहा कि तकनीकी गड़बड़ी के चलते निविदा में लो एस्ट वन की बजाय हाई एस्ट वन को टेंडर हो गया था। इसके बाद जिलाधिकारी की विशेष अनुमति पर टीम की निगरानी में मार्केट रेट पर सामानों की खरीद कराई।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कहा कि योग दिवस के आयोजन में सामानों की खरीद व अन्य व्यवस्थाओं के लिए निविदा में गड़बड़ी की शिकायत मिली थी। इसलिए तत्काल टेंडर निरस्त कर अपर जिलाधिकारी नगर की अध्यक्षता में टीम गठित कर फिलहाल मार्केट रेट पर सामानों की खरीद कराई गई। इसकी रिपोर्ट भी शासन को भेज रहे हैं।

Next Story
Share it