Top
Janta Ki Awaz

भाजपा सांसद साक्षी महाराज बोले- ज्ञानवापी तो भगवान शिव का स्थान, विवाद का कोई मतलब नहीं

भाजपा सांसद साक्षी महाराज बोले- ज्ञानवापी तो भगवान शिव का स्थान, विवाद का कोई मतलब नहीं
X

उन्नाव । वाराणसी के श्रीकाशी विश्वनाथ धाम कारिडोर के ज्ञानवापी में चल रहे सर्वे तथा वीडियोग्राफी के बीच में भारतीय जनता पार्टी के सांसद स्वामी सच्चिदानंद हरि साक्षी जी महाराज ने बड़ा बयान दिया है। उन्नाव से भारतीय जनता पार्टी के सांसद साक्षी महाराज ने साफ कहा कि वाराणसी का ज्ञानवापी तो भगवान शिव का स्थान है। वहां पर तो किसी भी प्रकार के विवाद का कोई मतलब ही नहीं है।

उन्नाव में बीघापुर तहसील के कई महाविद्यालयों में लैपटाप वितरण कार्यक्रम के दौरान सांसद साक्षी महाराज ने कहा कि देश में अटक से कटक और कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत एक है। भारतीय संविधान के खिलाफ जो भी कुछ करेगा, उसपर संवैधानिक कार्रवाई होगी।


वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के बारे में उन्होंने कहा कि ज्ञानवापी जैसा शब्द तो कुरान व इस्लाम में कहीं स्थान नहीं पाता। ज्ञानवापी का अर्थ है ज्ञान का सरोवर, ज्ञान का कुआं। इस शब्द से ही स्पष्ट है कि काशी में वह स्थान भगवान शिव का है, जो ज्ञान के दाता हैं। इसको लेकर विवाद का कोई मतलब नहीं।

सांसद साक्षी महाराज ने कहा कि दिल्ली के कुतुबमीनार व आगरा के ताजमहल की बात और है। मथुरा में जो मस्जिद है, वह आक्रांताओं ने तोड़कर बनवाई थी। कोर्ट में मामला है, जो भी निस्तारण होगा स्वीकार करेंगे। आगरा के ताजमहल की विवेचना होगी। पुरातत्व विभाग जांच करेगा। जो होगा साक्षी महाराज की मांग पर नहीं, पुरातत्व विभाग की डिमांड पर होगा। उन्होंने कहा कि देश के मदरसे राष्ट्रवाद की तरफ चल पड़ें तो हम स्वागत करेंगे।


साक्षी महाराज ने कहा कि ज्ञानवापी तथा अन्य प्रकरण पर ओवैसी क्या कहते हैं, इससे कोई मतलब नहीं। वह केवल मुसलमानों को बरगलाने का काम कर रहे हैं। महंगाई बढ़ती जा रही यह ठीक है, लेकिन महंगाई कम करने के लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार कोई न कोई योजना बनाती रहती हैं। आने वाले दस दिन के अंदर काफी कुछ नियंत्रित होगा।

साक्षी महाराज ने कांग्रेस को लेकर कहा कि भारत कांग्रेस मुक्त हो चुका है। अब देश की जनता कांग्रेस को बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है। गेहूं में जैसे कंडुआ रोग होता है वैसे ही राजस्थान व छत्तीसगढ़ जैसी कुछ जगह कांग्रेस दिख रही है। झारखंड में भी जाने वाली है। उनके पास सोनिया व राहुल के अलावा तीसरा कोई विकल्प नहीं है। वह परिवारवाद से बाहर नहीं निकल सकते। यह परिवारवाद ही कांग्रेस के सर्वनाश के लिए पर्याप्त है।

Next Story
Share it