Top
Janta Ki Awaz

पुल निर्माण में जल्दबाजी हो सकती है जानलेवा : मनोज सिंह डब्लू

पुल निर्माण में जल्दबाजी हो सकती है जानलेवा : मनोज सिंह डब्लू
X


चंदौली। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह डब्लू गुरुवार को चंदौली मुख्यालय पर निर्माणाधीन रेलवे ओवरब्रिज का जायजा लिया। उन्होंने जिलाधिकारी द्वारा 24 दिन के अंदर पुल चालू करने के अल्टीमेटम को जल्दबाजी करार दिया। कहा कि जल्दबाजी में किसी की जान से खिलवाड़ ना करें। यदि इस दरम्यान वाराणसी कैंट जैसी घटना हुई तो जिम्मेदार लोगों की ईंट से ईंट बजा दी जाएगी। पुल निर्माण कार्य में लगे अभियंताओं, ठेकेदार व मजदूरों पर अनावश्यक दबाव डाले। आरोप लगाया कि भाजपा को चुनाव के दिनों में ही विकास कार्यों को पूर्ण कराने की जल्दबाजी दिखती है इसके बाद वे विकास कार्यों को भूल जाते हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा काम करने से ज्यादा काम करने का श्रेय लेना जानती है। यह सबकुछ उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में सीखा है। यदि वजह है कि आज प्रदेश के साथ-साथ चंदौली का विकास पिछड़ता जा रहा है। उन्होंने भरोसा दिया कि यदि पुल नहीं बना तो सपा की सरकार आते ही प्राथमिकता के आधार पर इसे पूरा किया जाएगा। उन्होंने याद दिलाया के दो वर्ष पूर्व जब लोकसभा चुनाव था तो भाजपा को चंदौली के ओवरब्रिज निर्माण की जल्दी थी, लेकिन चुनाव बीतने के बाद भाजपा इसके निर्माण को भुल गयी। अब जबकि पुनः विधानसभा चुनाव निकट आ गया है तो भाजपा सरकार जिलाधिकारी के जरिए कार्यदायी संस्था व मजदूरों पर इसे जल्दबाजी में पूर्ण करने के लिए दबाव बना रही है जो पूरी तरह से अनुचित है। इससे जहां पुल की गुणवत्ता व उसकी मजबूती पर असर पड़ेगा। साथ ही काम के दौरान अप्रिय घटनाएं होने की आशंकाएं प्रबल होंगी, जिहाला पुल निर्माण कार्य की गति को सामान्य रखें। इसमें किसी भी तरह की जल्दबाजी आम लोगों के जीवन के साथ खिलवाड़ है। कहा कि भाजपा द्वैष की राजनीति करनी है लेकिन सपा उन तमाम अधूरे विकास कार्यों को पूरा करेगी, जिसे भाजपा ने पिछले पांच सालों में रोक रखा है। इसके अलावा भाजपा सरकार में चल रहे विकास कार्यों को पूरा किया जाएगा, क्योंकि विकास कार्य राजनीति द्वैष साधने के लिए नहीं, बल्कि जनसहयोग व सुविधा के लिए किए व कराए जाते हैं। यह बात शायद भाजपा भूल चुकी है, जिससे सत्ता से हटाकर इसे याद दिलाने की जरूरत है।

रिपोर्ट : ओ पी श्रीवास्तव

Next Story
Share it