Top
Janta Ki Awaz

टीएमयू बेटियों को बनाएगा आत्मनिर्भर

टीएमयू बेटियों को बनाएगा आत्मनिर्भर
X

खास बातें

यूपी की उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री श्रीमती नीलिमा

कटियार बतौर मुख्य अतिथि 14 जून को करेंगी कार्यक्रम का शंखनाद

वूमेन इंटरप्रिन्योरशिप डवलपमेंट प्रोग्राम- डब्ल्यूईडीपी ट्रेनिंग

एक माह तक चलेगी, प्रतिदिन डेढ़-डेढ़ घंटे के होंगे दो सत्र

देश के 44 जाने-माने शिक्षाविद और उद्यमी इन छात्राओं

और महिलाओं को सिखाएंगे उद्यमिता विकास के गुर

कुलाधिपति श्री सुरेश जैन बोले, देश की बेटियों के संग-संग

टीएमयू के लिए भी ट्रेनिंग प्रोग्राम होगा एक स्वर्णिम अवसर

यूपी के अलावा उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, बिहार,

पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक से अब तक 155 रजिस्ट्रेशन

देश की बेटियों को स्वावलंबी बनाने के लिए तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी अपना प्लेटफार्म मुहैया करा रहा है। 18 से 40 बरस की छात्राओं और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के गुर सिखाए जाएंगे। यह प्रशिक्षण वूमेन इंटरप्रिन्योरशिप डवलपमेंट प्रोग्राम- डब्ल्यूईडीपी के तहत एक माह तक चलेगा। 14 जून को इसका शुभारंभ यूपी की उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार बतौर मुख्य अतिथि करेंगी। कुलाधिपति श्री सुरेश जैन, जीवीसी श्री मनीष जैन, वीसी प्रो. रघुवीर सिंह और एमजीबी श्री अक्षत जैन ने कहा, देश की बेटियों के साथ-साथ टीएमयू के लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम एक स्वर्णिम अवसर साबित होगा। ट्रेनिंग से देश की बेटियां आत्मनिर्भर बनेंगी। नारी शक्ति की भूमिका समाज को संवारने में पहले से ही सशक्त है। यदि अब नारी शक्ति स्टार्टअप में प्रवेश करती है तो भारत जल्द ही विकसित देशों की कतार में शुमार हो जाएगा।

उद्यमिता विकास के इस प्रशिक्षण प्रोग्राम के लिए यूपी के अलावा उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, बिहार, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक से अब तक 155 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन हो चुके हैं। पंजीयन की अंतिम तिथि 12 जून है। डब्ल्यूईडीपी को देश के जाने-माने करीब चार दर्जन शिक्षाविद और उद्यमी सम्बोधित करेंगे। प्रशिक्षण हर दिन दो सत्रों में डेढ़-डेढ़ घंटे का होगा। यह जानकारी एफओईसीएस के प्राचार्य प्रो. राकेश कुमार द्विवेदी ने देते हुए बताया-डब्ल्यूईडीपी नेशनल साइंस एंड टेक्नोलॉजी इंटरप्रिन्योरशिप डवलपमेंट बोर्ड-एनएसटीईडीबी, डिपार्मेंट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी- डीएसटी और मिनिस्ट्री ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के वित्तीय सहयोग से हो रही है। प्रशिक्षण के दौरान हर सत्र के बाद बेटियों से सवाल और जवाब का दौर भी चलेगा।

नारी उद्यमिता विकास प्रशिक्षण प्रोगाम में बेटियों को बिज़नेस का आइडिया जेनेरेट करने, आइडिया पर प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने, फिजिबिलिटी की चेकिंग, राज्य और केंद्र सरकारों की सपोर्ट, लाइसेंस, वित्तीय मदद, कानूनी दांवपेच, पेटेंट प्रक्रिया, इंडस्ट्री कम्युनिकेशन स्किल, मार्किट सर्वे, डिजिटल मार्केटिंग आदि के तौर तरीके बताए जाएंगे। प्रशिक्षण प्रोग्राम में तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो. रघुवीर सिंह की भी गरिमामयी मौजूदगी रहेगी। इनके अलावा मुरादाबाद की निर्यात फर्म - साई आर्ट इम्पेक्स इंडिया की ओनर श्रीमती अनु ढल, डाईमक इंडिया सर्विस, मुरादाबाद श्रीमती तान्या भाटिया और टर्बोस्टार्ट की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, बंगलुरु की श्रीमती संगीता राज चौधरी गेस्ट ऑफ़ ऑनर होंगी। रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा, एसोसिएट डीन डॉ. मंजुला जैन, टिमिट के निदेशक प्रो. विपिन जैन, ज्वाइंट रजिस्ट्रार-आर एंड डी डॉ. वैशाली ढींगरा, ज्वाइंट रजिस्ट्रार- एचआर डॉ. पीएन अरोरा, डॉ. मनीष ढींगरा, श्री नवनीत विश्नोई, डॉ. गरिमा गोस्वामी, डॉ. पंकज गोस्वामी, डॉ. गुलिस्ता खान, डॉ. मेघना शर्मा, डॉ. रोहित सैनी के अलावा गुजरात से डॉ. चेतन आर. दुधगरा, डॉ. आशीष बी मेहरा, डॉ. महेश आर प्रजापति, महाराष्ट्र से डॉ. ऋचा राज कुमार जैन, नई दिल्ली से श्रीमती रश्मि जैन, आंध्रप्रदेश से डॉ. रवि ताती, डॉ. नईम, डॉ. कोल्ला भानु प्रकाश, बिहार से डॉ. पीतांबरा सिंह, रुड़की से डॉ. सुगंधा अग्रवाल और प्रो. रजत अग्रवाल अपने-अपने विषयों में पारंगत हस्तियां भी व्याख्यान देंगी।

Next Story
Share it