Top
Janta Ki Awaz

वाराणसी के व्यापारियों ने लगाई गुहार, जीएसटी के संकट को दूर करे सरकार

वाराणसी के व्यापारियों ने लगाई गुहार, जीएसटी के संकट को दूर करे सरकार
X

वाराणसी। जीएसटी में सरलीकरण और कारपोरेट घरानों से हटकर छोटे व्यापारियों के लिए सरल कानून बनाने की मांग को लेकर उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल (कंछल गुट) वाराणसी मंडल के अध्यक्ष विजय कपूर एवं मंडल महासचिव मुकेश जायसवाल के नेतृत्व में पूर्वांचल की सबसे बड़ी खाद्य मंडी विशेश्वरगंज में हाथों में पोस्टर बैनर लेकर प्रदर्शन किया गया।

मंडल अध्यक्ष विजय कपूर एवं मंडल महासचिव मुकेश जायसवाल ने कहा कि जीएसटी को आए लगभग तीन साल हो गए। इन तीन वर्षों में इसमें एक हजार से ज्यादा बदलाव हुआ। जिसका पता शायद सरकार को भी नहीं होगा। बदलाव पर बदलाव फाइल का अंबार लगता गया। मगर व्यापारियों को राहत नहीं मिला। लॉकडाउन के बाद बाजार को गति देने के लिए सरकार भले ही पर्याप्त वित्तीय सहायता प्रदान करने की दिशा में कारगर कदम उठा रही है। मगर जीएसटी में ई-वे बिल सहित अनेक अव्यवहारिक प्राविधानों ने उद्योग व्यापार जगत को संकट में डाल दिया। जिसके कारण व्यापारी वर्ग परेशान है।

ई-वे बिल के नियमों को लेकर व्यापारियों ने कहा कि इसमें 200 फीसदी पेनाल्टी का प्रावधान हो गया है। साथ ही राशि न देने पर माल बेचकर राशि वसूलने का नियम भी रखा गया है। नए नियम के मुताबिक किसी भी सामान को 24 घंटे में 200 किलोमीटर तक पहुंचाना है। पहले यह 100 किलोमीटर था। ऐसे में व्यापारियों का कहना है कि संभवत कभी-कभी रास्ते में गाड़ी खराब हो जाती है, ड्राइवर अस्वस्थ हो जाता है, धरना-प्रदर्शन या रोड जाम के कारण घंटों गाड़ी जाम में फंसी रह जाती है।

कहा कि ऐसी स्थिति में 24 घंटे के अंदर 200 किलोमीटर का मानक पूरा ना होने के कारण उनके ऊपर कार्यवाही की फांस तनने की संभावना बनी रहती है। इन विषम परिस्थितियों को देखते हुए सरकार जीएसटी में सरलीकरण करके व्यापारियों को राहत प्रदान करे। नंदकुमार टोपी वाले, अनिल केसरी, राजेश केसरी,अशोक गुप्ता, प्रदीप गुप्ता, अनिल सोनी, नितिन टंडन, राजीव खन्ना, अमरेश जायसवाल, सुनील अहमद खान, डॉ. मनोज यादव, राजेश श्रीवास्तव, जगमोहन पाठक, विकास जायसवाल, कुलदीप जायसवाल, पप्पू यादव थे।

Next Story
Share it