Top
Janta Ki Awaz

भगवान बुद्ध की प्रतिमा खंडित करने पर ग्रामीणों में आक्रोश, गांव में पुलिस प्रशासन तैनात

X

कुशीनगर।

रामकोला थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत पपउर में स्थित प्राचीन बुद्ध विहार में स्थापित तथागत भगवान बुद्ध की प्रतिमा (मूर्ति) को अराजक तत्वों द्वारा ईट से प्रहार कर तोड़ने का मामला प्रकाश में आया है जिससे क्षेत्र में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है।मौके पर स्थानीय पुलिस एवं नायब तहसीलदार कप्तानगंज पहुच कर जांच में जुट गए है।

मिली जानकारी के अनुसार रामकोला थाने के ग्राम पपउर में स्थित बुद्ध विहार में गांव के पूर्व प्रधान व बुद्ध विहार के संरक्षक रामनाथ नित्य की भांति वृहस्पतिवार की आला सुबह साफ- सफाई व पूजा अर्चना के लिए बुद्ध विहार में आए तो देखे की भगवान बुद्ध की मूर्ति को रात में अराजक तत्वों द्वारा राड व ईट आदि से प्रहार कर तोड़ दिया गया है। इसकी सूचना स्थानीय थाने को दे दी गई है मूर्ति तोड़ने की घटना क्षेत्र में जंगल की आग की तरह फैल गई और देखते ही देखते सैकड़ो की संख्या में अनुयायी व ग्रामीण मंदिर पर पहुचकर गिरफ्तारी व नई मूर्ति लगाने की मांग करने लगे।

बताते चले कि 13 मई 2014 को पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई में भगवान बुद्ध के जीवन से सम्बंधित अवशेष मिलने पर तत्कालीन जिलाधिकारी आर सैम्फिल ने तथागत भगवान बुद्ध की संगमरमर की प्रतिमा स्थापित करवाई थी जिससे क्षेत्र में हर्ष उत्पन्न हो गए था। इसी बीच 14 अप्रैल 2017 को अराजक तत्वों द्वारा मूर्ति को तोड़ा गया था जिसको प्रशासन ने मरम्मत करवाकर मामले को रफा- दफा कर दिया गया था लेकिन स्थानीय पुलिस प्रसाशन द्वारा अराजक तत्वों के ऊपर कार्यवाही न करने के कारण अराजक तत्वों का मनोबल इतना बढ़ गया कि बुधवार की रात में पुनः भगवान बुद्ध की प्रतिमा तोड़ डाली। जिससे लोगो मे भारी आक्रोश है।घटना स्थल पर पहुचे नायब तहसीलदार राधेश्याम उपाध्याय व राजस्व निरीक्षक शिवप्रसाद द्वारा धरना दे रहे अनुयायियों से मूर्ति रिपेरिंग करने की बात कही जिसपर सभी लोगो ने आपत्ति जताते हुए नई मूर्ति स्थापित करने व अराजक तत्वों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की गई।घटना स्थल पर नायब दरोगा विशाल सिंह, रसीद खा , कांस्टेबल अमित सिंह,उमेश यादव सहित दर्जनों पुलिस कर्मी मौजूद रहे। समाचार लिखे जाने तक तहरीर देने के बाद भी मुकद्दमा पंजीकृत नही हुई थी।

Next Story
Share it