Top
Janta Ki Awaz

उगते सूर्य को उपासकों ने दिया अर्घ्य पुत्र की दीर्घायु के लिए की कामना

उगते सूर्य को उपासकों ने दिया अर्घ्य पुत्र की दीर्घायु के लिए की कामना
X

सुबह नदियों, तालाब और पोखरों के घाटों पर पूजा के लिए लोगों भीड़ दिखी

कुशीनगर

महापर्व छठ को लेकर शहर में उत्साह का माहौल देखा गया। शनिवार को छठ पूजा का अंतिम दिन था और उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के लिए सुबह से ही नदियों से लेकर तालाब और पोखरों के घाटों पर

लोगों भीड़ दिखी। उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ का व्रत रखने वाले लोगों ने अपना व्रत तोड़ा और इसके साथ ही चार दिनों के महापर्व का समापन हो गया। इस दौरान महिलाओं ने छठ पूजा के गीत गाए। वहीं, बच्चों ने पटाखे छोड़े।

गौरतलब है कि शनिवार की सुबह नदी और तालाबों के घाटों पर श्रद्धालु उमड़ पड़े। कुछ तो पूरी रात घाट पर ही रुके रहे। सभी लोग भक्ति भावना में लीन थे। चारों ओर भक्ति गीत के साथ पूरा माहौल छठ मैया के पूजा में रंगा हुआ था। पिछले चार दिनों शहरो में लोगों में इस महापर्व को लेकर खास उत्साह देखने को मिला। वहीं तालाब पोखरा के घाटों पर सूर्य भगवान को अर्घ्य देकर सुख-समृद्धि शांति की कामना की गई। पूजा स्थलों पर छठ मईया के भोजपुरी गीत बजते रहे। पूजा के दौरान महिलाओं ने छोटी रे मोटी डोमिन बेटी के लामी लामी केश, सुपवा ले आइहा रे डोमिन, अर्घ के बेर,छोटी रे मोटी मालिन बेटी के लामी लामी केश,फुलवा ले आइहा रे मलिन, अर्घ के बेर लोकगीत गाया।

Next Story
Share it