बदमाशों ने कोर्ट परिसर में खेली 'खून की होली'

बदमाशों ने कोर्ट परिसर में खेली खून की होली

हाथों में लहराती पिस्टलों से गोलियों की बौछार करते दो बदमाश। फिल्मी स्टाइल में आकर देश के इस कुख्यात का दि एंड कर गए। बदमाशों की फायरिंग में बचते-बचाते भागते विभिन्न मुकदमों की पेशी पर आए लोग और अधिवक्ता। हर तरफ चीख-पुकार व अफरा-तफरी का माहौल। कुछ ऐसा ही मंजर था सोमवार सुबह 11 बजकर 40 मिनट पर कोर्ट में शुरू हुई गैंगवार का। पांच अगस्त 2014 को रुड़की उपकारागार गेट पर जेल से रिहा हो रहे कुख्यात चीनू पंडित और उसके साथियों के साथ हुई गैंगवार की घटना इस बार रामनगर कोर्ट में दोहराई गई।

इनमें अंतर यह था कि पहले की घटना में कुख्यात सुनील राठी के गुर्गे ने प्रतिद्वंदी चीनू पंडित को निशाना बनाया था। इस बार सुनील राठी का दायां हाथ माने जाने वाला देवपाल राणा निशाने पर था। इस घटना ने रुड़की को इसलिए भी हिलाकर रख दिया कि भारी सुरक्षा के बीच न्यायालय में बदमाशों ने गोलियों की बौछारें कर आतंक का माहौल बना दिया।

ज्यादा चिंता की बात यह भी है कि जिस तरह से बदमाश और पुलिसकर्मियों के बीच गोलाबारी हो रही थी, उसमें कई की जान जा सकती थी लेकिन, गनीमत रही कि कुख्यात देवपाल और उससे पेशी पर मिलने वाले दो लोगों को ही गोली लगी।

Share it
Share it
Share it
Top