आज भी जिन्दा है ईमानदारी

एटा


कहते हैं कि बुराई के साथ साथ अच्छाई भी है यदि ऐसा न होता तो पृथ्वी का संतुलन बिगड़ जाता।इसी क्रम मे आती है ईमानदारी,हमेशा से ईमानदार और सज्जन व्यक्ति की नजीर दी जाती है।आज कुछ ऐसा ही ईमानदारी का नजारा देखने को मिला।जब एटा की पुलिस लाइन मे आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान किसी पत्रकार भाई के जेब से रूपये गिर पड़े।जब इन रुपयों पर एटा की सोशल मीडिया सेल मे तैनात अतुल राठौर की नजर पड़ी तो उन्होंने उन रुपयों को उठाकर प्रेसवार्ता मे मौजूद मीडियाकर्मियों से कहा कि जिस किसी भी पत्रकार भाई की रूपये गिर गए है वो प्रेसवार्ता के बाद मुझसे प्राप्त कर लें।यह सुनकर पत्रकार भाई के मायूस चेहरे पर मुस्कान तैर गई।अतुल राठौर बेहद नम्र स्वभाव के सज्जन व्यक्ति हैं। इन्हें कई बार अपने उत्कृष्ट कार्यो के लिए सम्मानित भी किया गया है।अभी हाल ही मे 15 अगस्त को इनके कार्यो को लेकर एडीजी जोन आगरा अजय आनंद द्वारा सिल्वर मेडल से सम्मानित भी किया गया है।

रिपोर्ट:अनुज प्रताप सिंह

Share it
Top