बिहार: बाइकर्स गैंग ने Ex IPS को बीच सड़क पर पीटा, बकिया सुशासन चालु आहे

बिहार: बाइकर्स गैंग ने Ex IPS को बीच सड़क पर पीटा, बकिया सुशासन चालु आहे

पटना । पटना में बीच सड़क पर डीआइजी रैंक क‍े पूर्व आइपीएस अधिकारी को बाइकर्स गैंग ने जमकर पीटा। किसी तरह जान बचाकर उन्‍होंने वरीय अधिकारियों को खबर दी। इसके बाद एक थानेदार ने फोन कर हाल जाना तो अपना क्षेत्र नहीं होने की बात कह पल्‍ला झाड़ लिया। घटनाक्रम से अाहत घायल पूर्व पुलिस अधिकारी की पत्‍नी ने पुलिस पर ही भरोसा से इनकार कर दिया तथा कानून व्‍यवस्‍था पर भी सवाल खड़े किए। मामला पटना के रामकृष्ण नगर थाने के जगनपुरा इलाके का है।

बीच सड़क पर होती रही पिटाई

मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार की रात रामकृष्ण नगर थाने के जगनपुरा इलाके में एक दर्जन बाइक सवार बदमाशों ने पूर्व डीआइजी अजय वर्मा की सरेराह पिटाई कर दी। इस मामले में रामकृष्णानगर थाने में मामला दर्ज कराया गया है। अजय वर्मा 1985 बैच के आइपीएस अधिकारी हैं। पिछले साल उन्होंने स्‍वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) ले ली थी।

बाइक-कार टक्कर के बाद उलझा मामला

पूर्व डीआइजी अजय वर्मा अपने बेटे और पत्नी के साथ खरीदारी करने गए थे। लौटने के क्रम में जगनपुरा के पास एक बाइक ने पीछे से उनकी कार में टक्कर मार दी। बताया जाता है कि अजय वर्मा कार से नीचे उतरे और युवक की बाइक से चाबी निकाल ली। इसी बीच युवक ने फोन कर अपने दोस्तों को बुला लिया। कुछ ही देर में बाइक सवार एक दर्जन युवक वहां पहुंच गए और पूर्व डीआइजी अजय वर्मा की लात-घूंसे से जमकर पिटाई कर दी। उन्‍होंने कार ड्राइवर की भी पिटाई की। बीच-बचाव करने आए पत्नी और बेटे से भी बदलसलूकी की गई। एसएसपी गरिमा मलिक ने बताया कि पूर्व डीआइजी की कार से एक युवक की बाइक टकरा गई थी। इसके बाद दोनों ओर से विवाद हो गया।

बदमाशों की तलाश को छापेमारी जारी

रामकृष्णनगर थाने की पुलिस घटना के आधे घंटे बाद मौके पर पहुंची और घायल पूर्व डीआइजी को इलाज के लिए अस्पताल ले गई। पुलिस ने युवकों की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी है। पुलिस मारपीट में शामिल बदमाशों की शिनाख्त के लिए आसपास में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है। वहीं कुछ बाइक के नंबर पुलिस के हाथ लगे हैं, जिनके आधार पर बदमाशों की पहचान की जा रही है।

एक थानेदार ने फोन पर कहा: मेरा क्षेत्र नहीं

पूर्व डीआइजी की पत्‍नी संपा सिन्‍हा के अनुसार घटना स्‍थल पर करीब आधे घंटे तक पुलिस नहीं पहुंची। पुलिस महकमे के वरीय अधिकारियों से बात करने के बाद एक थानेदार ने फोन कर हाल जाना, लेकिन उसने यह कहते हुए पल्‍ला झाड़ लिया कि घटना उसके क्षेत्र में नहीं हुई है।

सदमे व गुस्‍से से भरी अजय वर्मा की पत्‍नी ने कहा कि घटना के दौरान वे लोग भगवान भरोसे रहे। किस्‍मत अच्‍छी थी कि जान बच गई। उन्‍होंने बिहार पुलिस पर भरोसा होने से इनकार कर दिया। साथ ही आए दिन हो रही घटनाओं को लेकर कानून व्‍यवस्‍था पर भी सवाल खड़े किए।

Share it
Top