Top
Janta Ki Awaz

जहांगीरपुरी कोरोना वायरस के मरीजों का बना गढ़, आज फिर मिले 46 और मरीज

जहांगीरपुरी कोरोना वायरस के मरीजों का बना गढ़, आज फिर मिले 46 और मरीज
X

नई दिल्‍ली, । राजधानी दिल्ली का जहांगीरपुरी कोरोना वायरस के मरीजों का गढ़ बनता जा रहा है। कुछ दिन पहले इलाके के सी ब्लॉक में एक ही परिवार के 31 लोग कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद अब बृहस्पतिवार को इलाके के एच ब्लॉक तीन में 46 और लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

प्रशासन की बढ़ी चिंता

प्रशासन ने ब्लॉक को 14 अप्रैल को सील कर दिया था। और सर्वे कर सभी स्थानीय निवासियों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा था। उन्ही में से 46 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। जहांगीरपुरी से लगातार आ रहे कोरोना के मामले से प्रशासनिक अधिकारियों की चिंता बढ़ गई है।

जहांगीरपुरी के लगभग सभी इलाके हुए सील

जहांगीरपुरी के लगभग सभी इलाकों को प्रशासन ने सील कर रखा है, इसके बावजूद कोरोना की चेन तोड़ने में सफलता नही मिल पा रही है। जहांगीरपुरी के विभिन्न ब्लॉकों से जो परिणाम सामने आए है वह बड़े चौंकाने वाले हैं।

एक महिला की हो चुकी है मौत

अब तक इस इलाके में कोरोना से एक महिला की मौत हो चुकी है, कुल 85 पॉजिटिव पाए गए हैं। और चार लोग संक्रमण से ठीक हुए है।

थाना और अस्पताल भी आया चपेट में

जहांगीरपुरी इलाके में स्थित थाना और बाबू जगजीवन राम स्मारक अस्पताल में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। अब तक 9 पुलिसकर्मी और तीन चिकित्सक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

इधर, कोरोना संकट से बचाव के लिए विशेषज्ञों और सरकार द्वारा लगातार लोगों को मास्क पहनकर घर से निकलने के निर्देश दिए जा रहे हैं। अधिकतर लोग इसका पालन भी कर रहे हैं। वहीं जो लोग पालन नहीं कर रहे हैं पकड़े जाने पर उन पर पुलिस द्वारा कार्रवाई भी की जा रही है।

इसी कड़ी में मयूर विहार फेस-1 स्थित एक पेट्रोल पंप पर प्रबंधन की ओर से बिना मास्क पहनकर आने वाले लोगों के लिए पेट्रोल देना बंद कर दिया गया है। पेट्रोल पंप पर पर्चे लगाकर लोगों को साफ-साफ संदेश दिया गया है नो मास्क, नो फ्यूल। इस बारे में बताते हुए पेट्रोल पंप के मैनेजर श्रीपाल सिंह ने बताया कि यह बिना मास्क वालों को पेट्रोल-डीजल न देने की व्यवस्था शुरू करने से हमारे कर्मचारी भी कोरोना वायरस से बचाव महसूस करते हैं, क्योंकि बिना मास्क लगाए लोगों को पेट्रोल-डीजल देते समय उनके संपर्क में आने पर हमारे कर्मचारी भी असुरक्षित महसूस करते थे। इसलिए हमारी ओर से यह कदम उठाया गया है।

Next Story
Share it