पाकिस्तान भिखारी को अब करो दुरूस्त : कृष्णेन्द्र राय

पाकिस्तान भिखारी को अब करो दुरूस्त : कृष्णेन्द्र राय

खौल रहा खून ।

फड़क रही भुजाएँ ।।

बेनक़ाब पड़ोसी ।

चली अब हवाएँ ।।

कर दो दुरूस्त ।

टुकड़े अब चार ।।

कुचल डालो फ़न ।

बना दो लाचार ।।

मिटा दो वजूद ।

पानी सर उपर ।।

पाकिस्तान भिखारी ।

आवाज हुई मुखर ।।

कृष्णेन्द्र राय

Krishnendra Rai

Share it
Share it
Share it
Top