राष्ट्रीय यादव सेना,ये कैसा व्यवहार :कृष्णेन्द्र राय

राष्ट्रीय यादव सेना,ये कैसा व्यवहार :कृष्णेन्द्र राय

घटिया बयानबाज़ी ।

बेटियों पर प्रहार ।।

राष्ट्रीय यादव सेना ।

ये कैसा व्यवहार ?

क़द्र करो भाई ।

बेटियों से आँगन ।।

तुच्छ मानसिकता ।

अब तक है जतन ?

विचारधारा धूमिल ।

हरकतें हैं जारी ।।

विचारों का पतन ।

या गठबंधन ख़ुमारी ?

व्यंग्यात्मक लेखक :कृष्णेन्द्र राय







Share it
Share it
Share it
Top