Top
Janta Ki Awaz

करवाचौथ पर अहतियात की साझेदारी रखेगी हर सुहागन का ख्याल

करवाचौथ पर अहतियात की साझेदारी रखेगी हर सुहागन का ख्याल
X

त्योहारों के मौसम में कोरोना प्रोटोकाल का खाश रखे ख्याल

1. उपवास के दिन महिलाओं की प्रतिरोधक क्षमता का कम होना तय

2. कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्ति पर कोरोना का असर तेज

3. तनाव ना लें ना ही शारीरिक व मानसिक तौर पर ज्यादा परिश्रम करें

4. उपवास में महिलाएं आत्म संयम बरतें व घर से बाहर न निकलें

प्रयागराज 23 अक्टूबर 2021: त्योहारों का मौसम शुरू हो गया हैं और दूसरी ओर वैश्विक महामारी कोरोना ने मानवीय जीवनशैली पर गहरा प्रभाव डाला है। बीते वर्ष कोरोना महामारी के अनुभव से हमें सीख लेने की जरूरत है। अहतियात रखे और लापरवाही न करें। सभी अपने सुहाग की सलामती के लिए 24 अक्टूबर रविवार) के दिन महिलाएं करवाचौथ का निर्जला उपवास रहेंगी। निर्जला उपवास के कारण महिलाओं की प्रतिरोधक क्षमता का कम होना तय है। ऐसे कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्ति पर कोरोना का असर तेज होता है। इस दिन महिलाएं आत्म संयम बरतें व घर से बाहर न निकलें।

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी एसीएमओ डॉ. तीरथ लाल ने बताया कि करवाचौथ का निर्जला उपवास बेहद कठिन प्रक्रिया है। आस्था से जुड़े होने के नाते हर सुहागन के लिए यह दिन बेहद खास होता है। इस करवाचौथ पर अहतियात की साझेदारी व कोरोना प्रोटोकॉल की समझदारी व जागरूकता पूरे परिवार को संक्रमण से बचा सकती है। इसलिए त्योहार के एक दिन पहले पूजा व घर के सभी आवश्यक सामान की खरीददारी कर लें। बाजार जाते वक्त मास्क से मुंह व नाक अच्छी तरह ढककर रखें। दुकान में प्रवेश करते व निकलते वक्त हाथों को सेनेटाइज जरूर करें। ऐसी महिलाएं जो महिलाएं ब्लड-प्रेशर, मधुमेह व हृदय संबंधी किसी संक्रमण एवं बीमारी से ग्रसित हों तो इन महिलाओं को चिकित्सीय परामर्शनुसार नियमित दवा का सेवन करना जरूरी है। अगर उपवास रहने वाली महिला या उसके परिवार में किसी को तेज बुखार है, सांस लेने में परेशानी या चक्कर, घबराहट जैसा कुछ महसूस हो तो तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाकर चिकित्सक से परामर्श लें।

गर्भवती महिला रखें विशेष ध्यान

डाइटीशियन विजय लक्ष्मी ने बताया कि गर्भवस्था के दौरान शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। इस कारण गर्भवती की प्रतिरोधक क्षमता कम होती जाती है। इस वजह से गर्भवती महिलाओं को ज्यादा देर तक खाली पेट नहीं रहना चाहिए। इन्हें व्रत के एक दिन पहले से भरपूर एनर्जी वाले खाद पदार्थो का सेवन करना चाहिए जिससे अगले दिन भी शरीर में उर्जा बनी रहे भरपूर मात्रा में पानी पिएं ताकि डिहाइड्रेशन की समस्या न हो। फलाहार व्रत कर सकती हैं। समय समय पर फलाहार एवं सूखे मेवे का सेवन कर सकते हैं।

गीता यादव ने बताया कि 'कोरोनाकाल की वजह से बहुत दिनों के बाद सबके घर खुशियाँ लौट कर आई हैं। इस बार करवाचौथ में प्रेम, सौहार्द व अहतियात की विजय होगी। कोरोना संक्रमण को किसी हाल में बढ्ने नहीं देना है। इसलिए घर में ही रहकर मैं पूजा-पाठ में अपना पूरा समय दूँगी। बाज़ार की भीड़ से बचने के लिए मैंने बाजार से सारे सामान दो दिन पहले ही मंगा कर रख लिए हैं। आवश्यक काम पड़ने पर घर से बाहर जाने के लिए परिवार के सदस्यों को मास्क व दो गज की दूरी का ध्यान रखने को कहूँगी।'

(गीता यादव, धूमनगंज)

Next Story
Share it