मणिशंकर ने पीएम मोदी को कहा नीच, पीएम का पलटवार-नीच जाति का हूं, लेकिन काम ऊंचे किए

मणिशंकर ने पीएम मोदी को कहा नीच, पीएम का पलटवार-नीच जाति का हूं, लेकिन काम ऊंचे किए

नई दिल्ली: गुजरात में पहले चरण का प्रचार थम गया है. लेकिन लेकिन प्रचार थमते-थमते कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के एक विवादित बयान से हंगामा मचा हुआ है. 'चाय वाला प्रधानमनंत्री नहीं बन सकता' कहकर राजनीतिक बवाल खड़ा करने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने एक बार फिर पीएम नरेंद्र मोदी के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया है. पीएम मोदी के लिए 'नीच' जैसे शब्द का इस्तेमाल करते हुए मणिशंकर अय्यर ने कहा, ''मुझको लगता है कि ये आदमी बहुत नीच किस्म का है. इसमें कोई सभ्यता नहीं है. ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है?'
पीएम मोदी से माफी मांगें मणिशंकर अय्यर-राहुल गांधी
राहुल गांधी ने मणिशंकर से प्रधानमंत्री मोदी से माफी मांगने को कहा. राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, ''मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री के लिए जिस भाषा का इस्तेमाल किया मैं उसकी बिल्कुल सराहना नहीं करता हूं. कांग्रेस पार्टी और मैं उम्मीद करता हूं कि वो पीएम मोदी से माफी मांगे.''
नीच जाति का हूं लेकिन काम ऊंचे किए-पीएम
सूरत की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस नेता मणिशंकर के बयान पर जोरदार पलटवार किया है. उन्होंने मणिशंकर अय्यर के बयान को गुजरात का अपमान बताया. ऊंच-नीच देश के संस्कार नहीं हैं, मुगल संस्कार वालों को मेरे जैसे का अच्छा कपड़ा पहनना सहन नहीं होता. मैं भले नीच जाति का हूं लेकिन काम ऊंचे किये हैं.
चुनाव में हार सामने देखकर कांग्रेस दिग्गजों का मानसिक संतुलन खराब हो गया है. मुझे भले ही कोई नीच कहे लेकिन मेरी अपील है कोई उनके खिलाफ मर्यादा का उल्लंघन ना करें. पीएम मोदी ने कहा कि देश के पीएम के लिए ऐसे शब्द...हमारा कोई भी कार्यकर्ता किसी भी फोरम पर इसका जवाब ना दे. गुजराती और बीजेपी के ऐसे संस्कार नहीं हैं. मणिशंकर के शब्द उन्हें मुबारक. 9 और 14 दिसंबर को कमल को वोट देकर नीच का जवाब दीजिए.
दरबारी और सामंती सोच-बीजेपी
रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''हम सभी कार्यकर्ता बहुत दुखी हैं आज, मोदी जी सिर्फ हमारी पार्टी के नेता नहीं हैं, वो देश के प्रधानमंत्री और अंतरराष्ट्रीय नेता है. उनके नेतृत्व में दुनिया आज भारत की तारीफ कर रहा है. दुनिया में भारत की तारीफ हो रही है. मैं मणिशंकर अय्यर के बयान की भर्त्सना करता हूं, उनकी सोच दरबारी संस्कृति का उदाहरण है. जो दरबार चाहता है वहीं ऐसे दरबारी बोलते हैं.''
रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''इन्हीं मणिशंकर अय्यर ने 2014 के चुनाव से पहले मोदी जी को चायवाला कहा था. ये सामंती सोच का उदाहरण है. बार बार कांग्रेस का अहंकार सामने आता है कि चायवाले का बेटा प्रधानमंत्री कैसे बन गया? ये देश के गरीबों का अपमान है. इसके पीछे एक सोच है जिसके मुताबिक सिर्फ गांधी परिवार ही देश को चला सकता है और कोई नहीं चला सकता है.''
रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''आज मोदी जी ने आंबेडकर जी के नाम पर एक अंतरराष्ट्रीय संस्थान का उद्घाटन किया. बाबा साहब को लेकर प्रधानमंत्री ने यही तो सवाल पूछा था कि गांधी परिवार ने बाबा साहब का सम्मान क्यों नहीं किया. ऐसा सवाल पूछने पर हमारे प्रधानमंत्री को नीच कहा जाएगा.'' रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''प्रधानमंत्री पर इस प्रकार के हमले राहुल गांधी की सहमति के बिना नहीं होते. राहुल गांधी आजक बहुत सवाल पूछे रहे हैं, उन्हें इसका भी जवाब देना चाहिए.''


Share it
Share it
Share it
Top
To Top
Select Location