Read latest updates about "भोजपुरी कहानिया" - Page 2

  • फिर एक कहानी और श्रीमुख . "अधूरा वादा"

    खेत में दस मिनट की देरी से पहुँचे टिकाधर काका को देख कर मनोजवा बो ने टिभोली मारा- कहाँ थे काका? बिरधा पिनसिम के पइसा से ताड़ी पीने नही नु गए थे?काका ने छूटते ही जवाब दिया- गए थे तोरा माई से बियाह करने! पतोहि हो के ससुर से ठिठोली करते लाज नही आती रे बुजरी की बेटी?खेत में सोहनी करती सभी बनिहारिने...

  • एक कहानी .........रहस्य...

    ...बिहार के बेगूसराय जिले का एक सामान्य गाँव, गाँव के जमींदार थे बाबू बटेसर सिंह। बाबू साहब कई सौ बीघे के काश्तकार थे, अगल बगल के दस से अधिक गाँव-टोलों में उनकी जमीनें थी। पूरे जिले में तो नहीं, पर अपनी सम्पन्नता और सहयोगी स्वभाव के कारण पूरे प्रखण्ड भर में प्रतिष्ठा पाते थे बाबुसाहेब। पर कहते हैं...

  • सुन रहे हैं??.........हाँ, बताओ न...: सौरभ चतुर्वेदी

    आज बाबू के स्कूल की छुट्टी ग्यारह बजे ही हो जाएगी..आपकी छुट्टी है ही..वैन के ड्राइवर को फोन करके आप खुद ही स्कूल चले जाइए..बच्चा खुश हो जाएगा कि पापा लेने आए हैं..बच्चा खुश हो न हो, बच्चे की माँ नाराज नहीं होनी चाहिए....बैंकों में जबसे शनिवार को छुट्टी होनी शुरू हुई है, ऐसा लगता है जैसे किसी...

  • अखरेला अधिका सवनवा बटोहिया

    विद्यालय से वापस लौटते आलोक पाण्डेय जब एकाएक झमाझम बारिस में घिर गए, तो जाने क्यों भीगने का मन होने लगा। पॉकेट से पैसा निकाल कर गाड़ी की डिक्की में डालने के बाद जब आलोक ने दोनों हाथों को हवा में लहराया, तो अंदर एक टीस उठी और आलोक पाण्डेय के होठों पर दर्द भरी मुस्कुराहट तैर गयी। सावन की बारिस हमेशा...

  • कहानी : जनाना मर्दाना... रिवेश प्रताप सिंह

    हिन्दी के उन मूर्धन्यों को भी सौ तोपों की सलामी जिन्होंने सजीव के अतिरिक्त निर्जीवों में स्त्रीलिंग-पुलिंग की श्रेणी बना डाली। सजीवों में तो लिंग निर्धारण आसान है किन्तु वह कौन सा परीक्षण है जिसकी कसौटी पर कस कर निर्जीव वस्तुओं का लिंग-निर्धारण किया जाता है?यदि हम आकार के हिसाब से माने तो 'सुराही'...

  • लभ यू तीन गोरियां.... आलोक पाण्डेय

    'बिन मारे बैरी मरे' की खुशी को दबाते हुए आइए सुनते हैं कि अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश अखंड भारत के भाग रहे हैं, अब क्योंकि ये भारत के विखंड हैं, इसलिए ये भारत के शाश्वत बैरी बरीबंड हैं।वास्तव में संसार बैरियों के बरियाई का बेर है, बैरियर है, बैरिकेडिंग है।जिसको 'राष्ट्र' नाम से जाना जाता...

  • कहानी : जामुन के पेड़ का प्रोटोकॉल बरसात में ...

    मुहल्ले में एक हुआ करता था, जिसकी अहमियत बरसात के दिनों में बढ़ जाती.. शेष महीने उसका कोई प्रोटोकॉल नहीं रहता. बरसात में जब जामुन पकती तो लगातार उसके चूने.. टपकने की प्रकिया चलती रहती लेकिन पेड़ से जमीन पर टपकने पर अधिकतम जामुन क्षतविक्षत हो जाते थे. गिरने के बाद भी जामुन, साबुत बचते लेकिन...

  • चरित्रहीन गाय (व्यंग्य)

    बकलोलपुर के जंगल मे एक हत्या हो गयी। एक गाय को कई भेड़ियों में सरेआम मिल कर चीड़-फाड़ दिया। गाय चुकी सज्जन थी, विवादों से दूर रहने वाली थी, सो प्रकृति के नियमों के अनुसार उसकी हत्या एक सामान्य प्राकृतिक घटना थी। इस धरा धाम पर सृष्टि के प्रारम्भ से ही भेड़िये गायों को यूँ ही चीरते-फाड़ते रहे हैं, सो उस...

  • 'शिकायत" (कहानी)

    नित्य की भांति अपने नर्सिंग होम के सभी वार्डों का चक्कर लगाते डॉ शशिशेखर शुक्ला जब जेनरल वार्ड में पहुँचे, तो एक बेड के पास अनायास ही ठिठक गए। बेड पर एक पचास-पचपन साल की महिला पड़ी हुई थी। डॉ शुक्ला ने ध्यान से उसके चेहरे को निहारा और सर घुमा लिया।उनके मन ने जैसे कहा, ' कहीं ये...' उन्होंने...

  • फिर एक कहानी और श्रीमुख "पिता"

    उन दोनों को भागते-भागते दो दिन और तीन रातें बीत चुकी थीं। उनके दोनों घोड़े एक दिन पहले ही गिर गए थे, तबसे वे बिना रुके पैदल ही जंगलों में भागे जा रहे थे। पर अब उनके शरीर और साहस, दोनों ने जवाब दे दिया था। पिता ने कहा, 'रुक के कुछ देर विश्राम कर लो पुत्र! हम इतनी दूर आ गए हैं कि अब कम से कम प्राणों...

  • लड़िकाई कौ प्रेम-१

    भारत में यदि क्रिकेट सफलता के शीर्ष पर न होता तो संभवतः यह देश आत्मविश्वास की कमी से जूझ रहा होता। सिनेमा भी था और है परंतु यह यथार्थ कम काल्पनिक अधिक है और कम सोच वाले व्यक्ति न केवल भ्रम में डाले रहता है बल्कि भावुक भी बनाता है।पर क्रिकेट की तो बात ही निराली है। आइपीएल ने भले ही इसे थोड़ा सहिष्णु...

  • फिर एक कहानी और श्रीमुख....."भरोसा"

    ट्रेन जब तमकुही रोड टीसन पर रुकी तो खिड़की से बाहर झाँक कर देखा उसने! सबकुछ बदल गया, आदमी तो आदमी पेंड़-खुट भी नही पहचाने जा रहे। पता नहीं यह माटी भी पहचानेगी या नहीं... धोती के कोर से उसने भर आई आँखों को पोंछा और सीट पर बिछाया हुआ अपना कम्बल उठा कर लपेट लिया। उसे अगले स्टेसन पर उतर जाना था। ...

Share it
Top