Read latest updates about "लेख" - Page 2

  • सीतापुर के जाने माने स्तंभकार, जगदीश शुक्ला के निधन पर विशेष ...: आराध्य शुक्ल

    1988 की एक गर्म दोपहर बिसवां के तत्कालीन चेयरमैन रहे अब्दुल अतीक खान का एक अनुचर मुझे बुलाने आया ,उस दौर तक मै कई साप्ताहिक पत्रो में लेखन का काम करता था,चेयरमैन साहब के उस छोटे से कमरे में 2 लोग बैठे हुए थे उनका परिचय कराते हुए मुझसे कहा गया कि निस्पक्ष प्रतिदिन समाचार पत्र सीतापुर से शुरू होने...

  • आदिशक्ति माँ दुर्गा का पौराणिक स्वरूप :-

    विश्वजननि पराशक्ति श्रीदुर्गा से ही शब्द एवं सृष्टि की उत्पत्ति हुयी है. शक्ति ने जब स्फूर्ति रूप धारण किया तब परमतत्व भगवान शिव ने उसमें तेजरूप से प्रवेश किया और इसप्रकार बिन्दु का प्रादुर्भाव हुआ. इसीप्रकार, जब शिव में शक्ति का प्रवेश हुआ तब नारीतत्व या नादतत्व व्यक्त हुआ. इन्हीं दोनों तत्वों...

  • लोहिया, भगत सिंह और हमारा समय

    23मार्च भगत सिंह का शहादत दिवस है तो लोहिया जी का जन्मदिवस । डॉ लोहिया ने इस दिन को बलिदान दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया था। भगतसिंह, राजगुरु और सुखदेव को इसी दिन लाहौर जेल में फांसी दी गई थी। समूचे देश में अंगरेजों के विरुद्ध आक्रोश का उफान था। लोहिया जी कहते थे कि यह जन्मदिन मनाने से...

  • सामयिक संदर्भो में लोहिया की सोशलिस्ट धारा

    लोहिया का निधन हुए पचास साल हो गए। किसी भी विचार परंपरा के नायक का मूल्यांकन उसके न रहने पर करना कई मायनो में बेहद जरुरी एवं नई पीढ़ी के लिए राजनीति को समझने का उपयोगी दिशापत्र हो सकता है जिसके माध्यम से समाज में उनके विचारों के प्रभाव का आकलन करने में मदद मिलती है। डॉ राममनोहर लोहिया भारतीय...

Share it
Share it
Share it
Top