Top

"लेख" - Page 2

  • लोकबंधु राजनारायण की पुण्यतिथि पर ....

    आज के ही दिन यानी 1986 में 31 दिसंबर को इस संसार को अलविदा कहने वाले समाजवादी नेता 'लोकबंधु' राजनारायण की यादों को 1977 में रायबरेली में सीधे चुनावी मुकाबले में पदासीन प्रधानमंत्री को धूल चटाने के उनके अब तक के अटूट रिकॉर्ड की खासी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है. 25 नवंबर, 1917 को उत्तर प्रदेश के...

  • स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे यशश्वी वर्ष 2019 विदा हो रहा...

    स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे यशश्वी वर्ष 2019 कल विदा हो रहा है। भारतीय स्वाभिमान के पुनरुत्थान का वर्ष, जिसमें भारत के माथे पर लगे 'धारा तीन सौ सत्तर' जैसे कोढ़ के दाग पोंछ दिए गए, और वर्ष के अंत मे पाकिस्तान और बंग्लादेश के उन असँख्य हिन्दुओं को उनका वह अधिकार देने का प्रयास किया गया जो लापरवाह...

  • परत , प्रेम के नाम पर षडयंत्र के विरुद्ध शंखनाद है ।

    जी हाँ ! पुस्तक समाप्त करने के पश्चात पहला भाव यही आया है मन में । लेखक की लेखन क्षमता के बारे में कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है , किन्तु जो विषय चुना है उन्होंने वह अद्वितीय है । सर्वेश यदि पुस्तक के सम्बन्ध में सूचित करते समय कहते हैं कि इस विषय पर लिखी यह पहली किताब है तो मेरे ज्ञान के अनुसार गलत...

  • "परत" हिन्दी का उपन्यास... बेस्टसेलर... अमेजॉन पर

    विश्वास नहीं होता ना! एकबारगी सचमुच हुआ भी नहीं बंधु...खुद को चिकोटी काटकर तस्दीक करना पड़ा कि कहीं हम स्वप्नलोक में तो विचरण नहीं कर रहे!!असल में इसमें दोष किसी का नहीं है...पूर्व के कृत्य और उन पर गढ़ी मान्यतायें कुछ इस तरह मन में घर कर गयी हैं कि हम लगभग मान ही चुके हैं कि अब रेणु, प्रेमचंद,...

  • अमर शहीद उधम सिंह जी की जयंती – जरा याद करो कुर्बानी

    देश की आजादी के लिए हंसते-हंसते अपनी जान कुर्बान करने वाले शहीदों की एक लंबी फेहरिश्त मौजूद है। हम भारतवासियों को को कम से कम उनकी जयंती और शहादत दिवस पर अवश्य याद करना चाहिए, उनके प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करना चाहिए। सरदार उधम सिंह स्वतंत्रता संग्राम के एक ऐसे ही जांबाज नौजवान थे जिन्होंने...

  • वर्ष का आखिरी सूर्य ग्रहण :- संवत् २०७६ पौष कृष्ण पक्ष अमावस्या गुरुवार 26 दिसम्बर 2019

    26 दिसंबर 2019 को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगेगा। इस बार ग्रहण भारत के अलावा यह एशिया के कुछ देश, अफ्रीका, आस्ट्रेलिया में भी ये ग्रहण दिखाई देगा। भारत में ग्रहण काल 2 घंटे 53 मिनट का रहेगा। सुबह 8.21 बजे से ग्रहण का आरंभ होकर सुबह 9.30 बजे मध्य काल और सुबह 11.14 बजे ग्रहण खत्म होगा।- सूर्य ग्रहण के...

  • हिन्दू राष्ट्रवाद के समर्थक और तुष्टीकरण की नीतियों के खिलाफ थे पं. मालवीय

    पंडित मदन मोहन मालवीय महान स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ और शिक्षाविद् ही नहीं बल्कि एक बड़े समाज सुधारक भी थे जिन्होंने देश से जाति प्रथा की बेड़ियां तोड़ने के लिए कई प्रयास किए। पच्चीस दिसंबर 1861 में इलाहाबाद में जन्मे पंडित मदन मोहन मालवीय अपने महान कार्यों के चलते 'महामना' कहलाए। वह तीन बार...

  • आओ देवकीनंदन! स्वागत है तुम्हारा

    महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था। युद्धभूमि में यत्र-तत्र योद्धाओं के फ़टे वस्त्र, मुकुट, टूटे शस्त्र, टूटे रथों के चक्के, छज्जे आदि बिखरे हुए थे, और वायुमण्डल में पसरी हुई थी घोर उदासी। गिद्ध, कुत्ते, सियारों की उदास और डरावनी आवाजों के बीच उस निर्जन हो चुकी भूमि में द्वापर का सबसे महान योद्धा...

  • उठिए! आपका देश जल रहा है...

    भारत को पाकिस्तान बनाने का स्वप्न देखने वाले सारे लड़ाके सड़कों पर उतर आए हैं। याकूब मेनन जैसे आतंकियों की फाँसी का विरोध करने वाले, उसे मसीहा बताने वाले, जिन्ना को आदर्श मानने वाले आतंकी सड़कों पर आग लगा रहे हैं। यदि आपको लगता है कि सड़कों पर आग लगाती, पत्थर चलाती आतंकी भीड़ CAA के विरोध में उतरी...

  • नागरिकता संशोधन कानून का किसी भी धर्म से जुड़े भारतीय नागरिक से कोई लेनादेना नहीं है

    इस कानून का किसी भी धर्म से जुड़े भारतीय नागरिक से कोई लेनादेना नहीं है। जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं वे भी इससे भलीभांति परिचित हैं। यह किसी भी भारतीय नागरिक को अनुच्छेद 14 के अधिकार से वंचित नहीं करता। ऐसा प्रतीत होता है कि विरोध करने वाले इस बात से कुपित हैं कि यह कानून पाक, बांग्लादेश और...

  • नागरिकता संसोधन विधेयक 2019

    1947 में हुआ भारत विभाजन विश्व इतिहास का सबसे असभ्य, निर्लज्ज और अमानवीय बटवारा था। परिस्थितियाँ चाहे जैसी भी रही हों, पर तात्कालिक भारतीय नेताओं द्वारा विभाजन को उस बेईमान रूप में स्वीकार करना एक ऐतिहासिक पाप था। संसार का कोई भी विभाजन यदि लाखों-लाख लोगों की हत्या और बलात्कार का कारण बने, तो उसे...

  • मुम्बई फ़िल्म इंडस्ट्री ऐतिहासिक फिल्मों के साथ बड़ा छल कर रही

    ऐतिहासिक विषयों पर बनी हिन्दी की मुम्बइया फिल्मों को देख कर लगता है कि मुम्बई फ़िल्म इंडस्ट्री भारत के साथ बड़ा छल करती है। आप इन दिनों बनी ऐतिहासिक फिल्मों की लिस्ट देखिये, सारी फिल्में उन्ही युद्धों को ले कर बनी हैं जिनमें हिन्दू राजा पराजित हो गए थे। पद्मावती में राणा रतन सिंह पराजित होते हैं,...

Share it
Top